Posts

यह किताब अभिनंदनीय है, सराहनीय है

Image
फ़िरदौस ख़ान
डॊ. सौरभ मालवीय जी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सहाफ़ी ज़िन्दगी पर ऐसी किताब लिखी है, जिसमें उनकी सहाफ़ी ज़िन्दगी पर रौशनी डालने के साथ-साथ उनके विचारों और लेखों को भी संजोया गया है. सौरभ जी समर्पित प्राध्यापक हैं, ओजस्वी वक्ता हैं. अध्ययन से उनका गहरा नाता है. उनका इंद्रधनुषी व्यक्तित्व इस किताब में साफ़ झलकता है. बेशक उनका यह काम क़ाबिले-तारीफ़ है, इसके लिए सौरभ जी मुबारकबाद के मुस्तहक़ हैं.

सौरभ जी ने हमें किताब पर एक तहरीर लिखने की ज़िम्मेदारी सौंपी है, जो कोई आसान काम नहीं है. क्योंकि  बहुत मुश्किल होता है किसी ऐसी शख़्सियत के बारे में लिखना, जो ख़ुद अपनी ही एक मिसाल हुआ करती है. श्री अटल बिहारी वाजपेयी भी एक ऐसी ही शख़्सियत हैं. वे मन से कवि, विचारों से लेखक, कर्म से राजनेता हैं. बहुआयामी प्रतिभा के धनी अटलजी ने कविताएं भी लिखीं, पत्रकारिता भी की, भाषण भी दिए, विपक्ष में रहकर सियासत भी ख़ूब की, सत्ता का सुख भी भोगा. इस सबके बावजूद वे मन से हमेशा कवि ही रहे. सियासत में मसरूफ़ होने की वजह से कविताओं से उनकी कुछ दूरी बन गई या यूं कहें कि वे कविता को उतना वक़्त नहीं दे पा…

शुभसंसन

Image
लाल जी टंडन
अटल बिहारी वाजपेयी का व्यक्तित्व किसी एक दिशा में नहीं देखा जा सकता। वे एक राजनीतिज्ञ, संसदीय परंपराओं के ज्ञाता, लोकमर्यादा के आदर्श और देश की विभिन्न समस्याओं की धरातल तक की जानकारी रखने वाले नेता हैं। अटलजी को साहित्यकार कहा जाए, कवि कहा जाए या पत्रकार, समझ नहीं आता। वे विविध विधाओं से संपन्न व्यक्तित्व हैं अटल बिहारी वाजपेयी। वे एक ओजस्वी वक्ता हैं। उनकी भाषा शैली प्रभावशाली है, जिसे सुनकर, पढ़कर लोग उनके मुरीद हो जाते हैं। पत्रकारिता के क्षेत्र में उनकी साहित्यिक भाषा अपने में एक अलग विधा है। उनके संपादकीय राष्ट्रवाद से ओतप्रोत हैं, जिनमें देश के ज्वलंत मुद्दों को उठाते हुए समाधान भी होता है। यह एक अनूठा उदहारण है। वीर अर्जुन, स्वदेश, राष्ट्रधर्म, पांचजन्य आदि में अटलजी ने कार्य किया। अटलजी की सक्रिय पत्रकारिता से समाज लाभान्वित हुआ है। मैं सौभाग्यशाली हूं कि अटलजी के साथ काम करने अवसर मिला। उनके साथ एक लम्बा समय व्यतीत किया है। अटलजी ने विषम परिस्थितियों में पत्रकारिता शुरू की थी।  उन्होंने राष्ट्रधर्म के प्रारंभिक दौर में छपाई की मशीन को खुद अपने हाथों से चलाने से ले…

अटल जी की यह अमूल्य धरोहर

Image
हृदयनारायण दीक्षित
पूर्व प्रधानमंत्री माननीय अटल बिहारी वाजपेयी पर ढेर सारी पुस्तकें हैं। उनके बहुआयामी व्यक्तित्व पर बहुत कुछ लिखा गया है। लेकिन उनके पत्रकारीय जीवन पर आधारित पुस्तक का प्रकाशन अनूठा है। श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी प्रखर राष्ट्रवादी नेता, श्रेष्ठ वक्ता, सर्वश्रेष्ठ सांसद और सफल प्रधानमंत्री रहे हैं। उनका राजनीतिक जीवन सभी के लिए प्रशंसनीय व अनुकरणीय है। उनका जीवन त्याग, तपस्या और राष्ट्र प्रेम से ओत प्रोत हैं। उनके जीवन का एक-एक क्षण भारत माता को समर्पित हैं। उनका व्यक्तित्व कृतित्व आनंदवर्द्धन है। श्री अटल जी का शिष्ट, सौम्य, अजातशत्रु स्वरूप बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करता है। मुझे उनके निकट रहने का सौभाग्य मिला है। उनके चिंतन की गहनता, वैचारिक विविधता, प्रशासक की दृढ़ता सहज आकर्षण रही है। जनसंघ के संस्थापक से लेकर भारतीय जनता पार्टी को शिखर तक पहुंचाने में उनका योगदान प्रशंसनीय है। उनकी कविताओं में संवेदनशीलता है। उनकी लेखनी झकझोर कर रख देने वाली है। उनके विचार स्पष्ट हैं। भाषा तरल सरल विरल है। वे अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े और सीधे पत्रक…

पुस्तक अमेज़न पर उपलब्ध है

Image
मेरी पुस्तक ’राष्ट्रवादी पत्रकारिता के शिखर पुरुष अटल बिहारी वाजपेयी’ अमेज़न पर उपलब्ध है.
ऒनलाइन पुस्तक मंगाने के लिए यहां क्लिक करें 


सत्यम शिवम सुंदरम

Image
डॊ. सौरभ मालवीय
सत्य ही शिव है, शिव ही सुंदर है. भगवान शिव को देवों का देव महादेव भी कहा जाता है। भगवान शिव को आदि गुरु माना जाता है। भगवान शिव की आराधना का मूल मंत्र तो ऊं नम: शिवाय ही है, परंतु इस मंत्र के अतिरिक्त भी कुछ मंत्र हैं, जिनके जाप से भोले शंकर प्रसन्न हो जाते हैं। शिवरात्रि हिन्दुओं विशेषकर शिव भक्तों का प्रमुख त्योहार है। शिव रात्रि भगवान शिव को अतिप्रिय है। शिव पुराण के ईशान संहिता के अनुसार फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि में आदिदेव भगवान शिव करोड़ों सूर्यों के समान प्रभाव वाले लिंग रूप में प्रकट हुए थे-
फाल्गुनकृष्णचतुर्दश्यामादिदेवो महानिशि। शिवलिंगतयोद्भूत: कोटिसूर्यसमप्रभ:॥
मानयता यह भी है कि इसी दिन प्रलय आएगा, जब प्रदोष के समय भगवान शिव तांडव करते हुए ब्रह्मांड को तीसरे नेत्र की ज्वाला से नष्ट कर देंगे। इसीलिए इसे महाशिवरात्रि अथवा कालरात्रि भी कहा जाता है।

वर्ष में 12 शिवरात्रियां आती हैं। इनमें महाशिवरात्रि की सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। महाशिवरात्रि का पावन पर्व फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को मनाया जाता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार अग्निलिंग के उदय के साथ इसी दिन…

विदेश नीति : अटल बिहारी वाजपेयी के अनमोल विचार

Image
आप मित्र बदल सकते हैं, पर पड़ोसी नहीं. नेपाल हमारा पड़ोसी देश है. दुनिया के कोई देश इतने निकट नहीं हो सकते, जितने भारत और नेपाल हैं.जो लोग हमें यह पूछते हैं कि हम कब पाकिस्तान के साथ वार्ता करेंगे, वे शायद इस तथ्य से वाकिफ नहीं हैं कि पिछले  वर्षों में पाकिस्तान के साथ बातचीत के लिए हर बार पहल भारत ने ही किया है.भारत में भारी जन भावना थी कि पाकिस्तान के साथ तब तक कोई सार्थक बातचीत नहीं हो सकती जब तक कि वह आतंकवाद का प्रयोग अपनी विदेशी नीति के एक साधन के रूप में करना नहीं छोड़ देता.सबके साथ दोस्ती करें, लेकिन राष्ट्र की शक्ति पर विश्वास रखें. राष्ट्र का हित इसी में है कि हम आर्थिक दृष्टि से सबल हों, सैन्य दृष्टि से स्वावलम्बी हों.पाकिस्तान कश्मीर, कश्मीरियों के लिए नहीं चाहता. वह कश्मीर चाहता है पाकिस्तान के लिए. वह कश्मीरियों को बलि का बकरा बनाना चाहता है.मैं पाकिस्तान से दोस्ती करने के खिलाफ नहीं हूं. सारा देश पाकिस्तान से संबंधों को सुधारना चाहता है, लेकिन जब तक कश्मीर पर पाकिस्तान का दावा कायम है, तब तक शांति नहीं हो सकती.पाकिस्तान हमें बार-बार उलझन में डाल रहा है, पर वह स्वयं उलझ जा…

कृषि : अटल बिहारी वाजपेयी के अनमोल विचार

Image
खेती भारत का बुनियादी उद्योग है.अन्न उत्पादन द्वारा आत्मनिर्भरता के बिना हम न तो औद्योगिक विकास का सुदृढ़ ढांचा ही तैयार कर सकते है और न विदेशों पर अपनी खतरनाक निर्भरता ही समाप्त कर सकते हैं.हमारा कृषि-विकास संतुलित नहीं है और न उसे स्थायी ही माना जा सकता है.कृषि-विकास का एक चिंताजनक पहलू यह है कि पैदावार बढ़ते ही दामों में गिरावट आने लगती है.