Posts

Showing posts from 2019

सुखद मुलाक़ात

Image
केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन जी एवं प्रतिभा आडवाणी जी

सानिध्य; महामहिम राज्यपाल उत्तर प्रदेश

Image
मा. राम नाईक जी

एक शाम - वरिष्ठ मीडिया विशेषज्ञों के साथ

Image
श्री राहुल देव
श्री केजी सुरेश
श्री सुमित सिंह
श्री संजीव सिन्हा
श्री विकास आनंद

पिता-पुत्री-पुत्र

Image
सृष्टि मालवीय
श्रीन्द्र मालवीय




संघ विचारक : डॉ. सौरभ मालवीय

Image
ABP NEWS

ABP News विधान सभा चुनाव चर्चा - डॉ सौरभ मालवीय

Image

ज़ी हिंदुस्तान - परिचर्चा

Image
डॉ॰ सौरभ मालवीय

दिल्ली की एक शाम

Image
चित्र परिचय- वरिष्ठ पत्रकार अवधेश कुमार , चर्चित टीवी एंकर अशोक श्रीवास्तव एवं मित्र संजीव सिन्हा

मेरा गाँव मेरा तीर्थ

Image

पुस्तक विमोचन ' विकास के पथ पर भारत'

Image
मा. सुबेदार जी  मा.  बाल मुकुंद जी  प्रोफ. रजनीश शुक्ल जी  प्रोफ.मदन मोहन जी 



ABP News Live

Image

महामहिम माननीया द्रौपदी मुर्मू जी राज्यपाल- झारखंड राजभवन में मुलाकात एवं चर्चा का शुभअवसर!

Image

एक मुलाकात- श्री रघुवरदास, मुख्यमंत्री- झारखंड

Image

एबीपी न्यूज परिचर्चा

Image

"न्यू मीडिया के आगे नतमस्तक मुख्यधारा की मीडिया"

Image
प्रवक्ता डॉट कॉम के 10 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर, "न्यू मीडिया के आगे नतमस्तक मुख्यधारा की मीडिया" विषय पर 16 अक्टूबर 2018 को शायं 5 बजे कॉन्स्टिट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया के स्पीकर हॉल में संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है।



वक्ता के रूप में :
अमर उजाला के समूह सम्पादक, श्री उदय सिन्हा

माइक्रोसॉफ्ट के भाषा स्थानीयकरण के निदेशक और सोशल मीडिया विशेषज्ञ, बालेंदु शर्मा दधीचि,

ज़ी मीडिया समूह के राजनीतिक मामलों के समूह सम्पादक, बृजेश कुमार सिंह

न्यूज़ नेशन में संपादक, विनीता यादव

कार्यक्रम की अध्यक्षता IGNCA के सदस्य सचिव सचिदानंद जोशी करेंगे।

कार्यक्रम का संचालन माखनलाल में सहायक प्राध्यापक डॉ सौरभ मालवीय

कार्यक्रम में स्वागत भाषण प्रवक्ता डॉट कॉम के संस्थापक भारत भूषण एवं धन्यवाद ज्ञापन संस्थापक संपादक संजीव सिन्हा करेंगें।



सानिध्य- भारत सरकार के गृहमंत्री आदरणीय श्री राजनाथ सिंह!

Image

सामाजिक क्रांति के अग्रदूत : बाबासाहेब आंबेडकर

-डॊ. सौरभ मालवीय
 सामाजिक समता, सामाजिक न्याय, सामाजिक अभिसरण जैसे समाज परिवर्तन के मुद्दों को प्रमुखता से स्वर देने और परिणाम तक लाने वाले प्रमुख लोगों में डॊ. भीमराव आंबेडकर का नाम अग्रणीय है। उन्हें बाबा साहेब के नाम से जाना जाता है। एकात्म समाज निर्माण, सामाजिक समस्याओं, अस्पृश्यता जैसे सामजिक मसले पर उनका मन संवेदनशील एवं व्यापक था। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन ऊंच-नीच, भेदभाव, छुआछूत के उन्मूलन के कार्यों के लिए समर्पित कर दिया। वे कहा करते थे- एक महान आदमी एक आम आदमी से इस तरह से अलग है कि वह समाज का सेवक बनने को तैयार रहता है। 4 अप्रैल, 1891 को मध्य प्रदेश के महू में जन्मे भीमराव आंबेडकर रामजी मालोजी सकपाल और भीमाबाई की चौदहवीं संतान थे। वह हिंदू महार जाति से संबंध रखते थे, जो अछूत कहे जाते थे। इसके कारण उनके साथ समाज में भेदभाव किया जाता था। उनके पिता भारतीय सेना में सेवारत थे। पहले भीमराव का उपनाम सकपाल था, लेकिन उनके पिता ने अपने मूल गांव अंबाडवे के नाम पर उनका उपनाम अंबावडेकर लिखवाया, जो बाद में आंबेडकर हो गया। पिता की स्वानिवृत्ति के बाद उनका परिवार महाराष्ट्र के सतार…

श्री लालजी टण्डन को बधाई

Image
भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं लखनऊ के पूर्व सांसद श्री लालजी टण्डन जी को बिहार का राज्यपाल बनायें जाने की बधाई, शुभकामनाएं...
टण्डन जी बीजेपी के उन नेताओं में है जो अटल जी का अपार स्नेह पाए है। अटलजी पर केंद्रित पुस्तक लेखन से पूर्व चर्चा करते हुए।

भारतीय पत्रकारिता का पिंड है राष्ट्रवाद, फिर इससे गुरेज क्यों?

Image
सौरभ मालवीय ने कहा अटल बिहारी वाजपेयी जन्मजात वक्ता थे, जन्मजात कवि हृदय थे, पत्रकार थे, प्रखर राष्ट्रवादी थे. उनके बारे में कहा जाता था कि यदि वह पाकिस्तान से चुनाव लड़ते तो वहां से भी जीत जाते और पाकिस्तान का नेता कहे जाते.
जय प्रकाश पाण्डेय
राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के सहयोग से प्रगति मैदान में लगे विश्व पुस्तक मेला 2019 में लेखक मंच पर 'साहित्य आजतक' का अगला सत्र था डॉ. सौरभ मालवीय की पुस्तक 'राष्ट्रवादी पत्रकारिता के शिखर पुरुष- अटल बिहारी वाजपेयी' पर चर्चा का. जहां सईद अंसारी से बातचीत के लिए मौजूद रहे पं माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के प्राध्यापक और इस किताब के लेखक डॉ. सौरभ मालवीय. सत्र के शुरू में सईद ने मालवीय की राजनीतिक और सामाजिक समझ की तारीफ करते हुए पूछा कि किस तरह वह अटल बिहारी वाजपेयी को एक पत्रकार और वह भी एक राष्ट्रवादी पत्रकारिता के शिखर पुरुष के रूप में देखते हैं.

डॉ. सौरभ मालवीय ने 'साहित्य आजतक' का आभार जताते हुए, 'तेरा तुझको अर्पण' की बात कही और कहा कि देश और समाज ने हमको जो दिया हमने उसे वही लौटाया. अटल बिहारी…