Posts

Showing posts from 2017

सहृदय कवि : अटलजी

Image
अटल जी के जन्म दिवस 25 दिसंबर पर विशेष
डॊ. सौरभ मालवीय 
पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक राजनीतिज्ञ के रूप में जाना जाता है. राजनीतिज्ञ होने के अलावा वह साहित्यकार भी हैं. उन्हें साहित्य विरासत में मिला था. वह कहते हैं, ‘रामचरितमानस’ तो मेरी प्रेरणा का स्रोत रहा है. जीवन की समग्रता का जो वर्णन गोस्वामी तुलसीदास ने किया है, वैसा विश्व-साहित्य में नहीं हुआ है. बचपन से ही उन्होंने कविताएं लिखनी शुरू कर दी थीं. स्वदेश-प्रेम, जीवन-दर्शन, प्रकृति तथा मधुर भाव की कविताएं उन्हें बाल्यावस्था से ही आकर्षित करती रही हैं. उनकी कविताओं में प्रेम है, करुणा है, वेदना है. एक पत्रकार के रूप में वे बहत गंभीर दिखाई देते हैं. वे कहते हैं, मेरे भाषणों में मेरा लेखक ही बोलता है, पर ऐसा नहीं कि राजनेता मौन रहता है. मेरे लेखक और राजनेता का परस्पर समन्वय ही मेरे भाषणों में उतरता है. यह जरूर है कि राजनेता ने लेखक से बहुत कुछ पाया है. साहित्यकार को अपने प्रति सच्चा होना चाहिए. उसे समाज के लिए अपने दायित्व का सही अर्थों में निर्वाह करना चाहिए. उसके तर्क प्रामाणिक हो. उसकी दृष्टि रचनात्मक होनी चाहि…

उदारमना अटल बिहारी वाजपेयी

Image
भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस 25 दिसंबर पर विशेष
डॉ. सौरभ मालवीय
भारतीय जहां जाता है, वहां लक्ष्मी की साधना में लग जाता है. मगर इस देश में उगते ही ऐसा लगता है कि उसकी प्रतिभा कुंठित हो जाती है. भारत जमीन का टुकड़ा नहीं, जीता-जागता राष्ट्रपुरुष है. हिमालय इसका मस्तक है, गौरीशंकर शिखा है, कश्मीर किरीट है, पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं. दिल्ली इसका दिल है. विन्ध्याचल कटि है, नर्मदा करधनी है. पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघाएं हैं. कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग पखारता है. पावस के काले-काले मेघ इसके कुंतल केश हैं. चांद और सूरज इसकी आरती उतारते हैं, मलयानिल चंवर घुलता है. यह वन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है. यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है. इसका कंकर-कंकर शंकर है, इसका बिंदु-बिंदु गंगाजल है. हम जिएंगे तो इसके लिए, मरेंगे तो इसके लिए. यह कथन कवि हृदय राजनेता अटल बिहारी वाजपेयी का है. वह कहते हैं, अमावस के अभेद्य अंधकार का अंतःकरण पूर्णिमा की उज्ज्वलता का स्मरण कर थर्रा उठता है. निराशा की अमावस की गहन निशा के अंधकार में हम अपना मस्तक आत्म-गौरव के साथ तनिक…

भेंट

Image

शुभकामनाएं

Image
शुभकामनाएं
मध्य में बैठे मित्र का आज जन्मदिन है।
प्रवक्ता बीजेपी यूपी

खिलौने वाला आया रे...

Image

भेंट

Image

उत्तर-प्रदेश निकाय चुनाव

Image

मुलाक़ात

Image

सुप्रभात

Image

चर्चा

Image
सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और युवा भागीदारी

सम्मान

Image

कुल्हड़ वाली चाय

Image

भारतीय दृष्टि मानवता की दृष्टि : शंकर शरण

Image
शंकर शरण एक संज्ञा नहीं अपितु इस मृत्युन्जय भारत के संरक्षक है, जिनकी बौद्धिकता के शिखर से राष्ट्रवाद की गंगा आदि काल तक लोगों को पवित्र करती रहेगी। शंकर शरण का लेखन ,वक्तृत्व ,कृत्रित्व और चिंतन राष्ट्रवाद की शाश्वत स्वरूप का प्रतीक है ।
आज अवसर था पत्रकारिता के विद्यार्थियों से संवाद।

आर्ट अड्डा

Image
आर्ट अड्डा' कलाकारों एवं बुद्धिजीवियों के साथ एक संवाद

सदगुरु को जन्मदिन की शुभकामनाएं

Image
सदगुरु को जन्मदिन की शुभकामनाएं
कुछ रिस्ते ईश्वरीय होते है ऐसे ही आदरणीय बालमुकुन्द जी मेरे गुरु है जो मुझे किसी स्कूल या विवि.के क्लास रूम में तो नहीं पढ़ाये लेकिन समाज जीवन में चलना जरूर सिखाये।
युवाओं के प्रेरणा स्रोत,इतिहासवेता,संघ के वरिष्ठ प्रचारक मेरे पथ प्रदर्शक मान्यवर डॉ. बालमुकुन्द जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

गोद भराई एवं तिलकोत्स

Image
विश्व बंधुत्व की पाठशाला है भारतीय विवाह पद्धति : राजेन्द्र त्रिपाठी (अध्यक्ष,पूर्वांचल विद्वत परिषद)
भतीजी दिव्या के गोद भराई एवं तिलकोत्सव के शुभ अवसर पर विमर्श परम्परा में।

खुशी

Image

सानिध्य

Image

वाद-संवाद प्रतियोगिता

Image
भ्रष्टाचार, बेरोजगारी जैसे पापों का जब पतन होगा ।
फिर खुशहाल यह जीवन और खुशहाल मेरा वतन होगा।।
प्रेरणा शोध संस्थान नोएडा द्वारा आयोजित विमुद्रीकरण विषय पर वाद-संवाद प्रतियोगिता का आयोजन ।

सत्रारंभ

Image

संवाद

Image
राष्ट्रीय प्रेस दिवस

बाल दिवस

Image
14 नवम्बर
बाल दिवस

अभिनव प्रयोग

Image
40 वर्ष के कम आयु केे लेखकों की रचनाओं को और उनकी प्रतिभा को एक नए क्षितिज देने का एक अवसर "राष्ट्रीय पुस्तक न्यास - नई दिल्ली" द्वारा 'नवलेखन' के माध्यम से सुन्दर प्रयास है। कुल 25 युवा लेखकों की हिंदी कहानियों का यह संग्रह पठनीय है। इस अंक के सम्पादक प्रो.अरुण कुमार भगत है। शुभकामनाएं

हँसना जरूरी है

Image
आप इनको पहचानते है तो बताइए कौन है ?
क्योकिं हँसना जरूरी है...

छठ महापर्व

Image
ॐ सूर्याय नमः
भगवान भास्कर सभी का कल्याण करें

सार्थक संवाद

Image
भारतीय शिक्षा व्यवस्था'
Centre for Civil Society द्वारा आयोजित परिचर्चा दिल्ली पत्रकार संघ कार्यालय में। सार्थक संवाद। शानदार आयोजन। शुभकामनाएं Avinash Chandra

संवाद

Image
माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विवि-नोएडा परिसर में विद्यार्थियों से संवाद करते हुए।